भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ननदिया माँगे फुलझड़ी हे, हम न देवइ / मगही

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मगही लोकगीत   ♦   रचनाकार: अज्ञात

ननदिया माँगे फुलझड़ी हे, हम न देवइ[1]
झलाही[2] माँगे मोती लड़ी हे, हम न देवइ॥1॥
राजाजी, सोवे कि जागे हे, हम न देवइ।
अप्पन[3] बहिनी के बरजू[4] हे, हम न देवइ॥2॥

शब्दार्थ
  1. दूँगी
  2. हठीली अथवा झल्लानेवाली या जरलाही = जली हुई। एक प्रकार की गाली
  3. अपनी
  4. मना करो