भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

नन्हीं बच्ची नहीं जानती / रंजना जायसवाल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हँसती-खिलखिलाती
नन्हीं बच्ची
नहीं जानती
कब उतर आयेगा
वात्सल्य लुटाती आँखों में
कोई गिध
और
ले उड़ेगा उसकी
सारी की सारी मासूमियत
एक ही झटके में
ज़िन्दगी भर के लिए।