भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

नन्हें फूल / शिशु पाल सिंह 'शिशु'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अरे गर्वीले नन्हें फूल!

दीन मधुप मधु पीने आये,
तेरे द्वारा जीने आये,
इन्हें विमुख लौटा देने से होगी भारी भूल
अरे गर्वीले नन्हें फूल!


यह वैभव है नहीं व्यष्टि का,
वास्तव में है सब समष्टि का,
जहाँ व्यक्तिगत- स्वार्थ अंकुरित हुआ वहीं है शूल
अरे गर्वीले नन्हें फूल!

यदि आवश्यकता से वंचित –
करके, रक्खा जाये संचित,
तो न पराग, पराग रहेगा हो जायेगा धूल
अरे गर्वीले नन्हें फूल!