भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

नफरत / शैलजा पाठक

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मैं नफ़रत करती हूँ
बरसों बाद वापस
आती तुम्हारी आवाज में उगे है तमाम काटें

मिलने की बात पर बरगद का वो
सबसे पुराना पेड़ जल कर खाक
हो गया सा जान पड़ता है

उस मोड़ पर जहाँ से मुड़े थे तुम
एक गहरा कुआँ अचानक से दिखता है मुझे
जिसके अन्दर बरसों से पड़ी मैं
तुम्हारा नाम ले ले कर खामोश हो गई थी

बिनाकुछ कहे तुम एक ऐसी दुनिया में
थे जहाँ मेरी उदासी के कोई गीत
तुमने कभी नही सुने

बड़ी मुश्किल से जीना सिखा है
नफ़रत करना भी

कोई हक नही
मेरा प्यार पाने का

हाँ नफरत करती हूँ इतना
जितना टूट कर किया था प्यार कभी
तुम्हारे दिए जख्मों की टीस
अभी ताजा है

इस टीस में पुरानी यादों की
बची हुई नरम हरी कोपलें है
मैंने इन्हें गहरे रोपा है