भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

नम्बू लगायो चहकने का / बघेली

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बघेली लोकगीत   ♦   रचनाकार: अज्ञात

नम्बू लगायो चहकने का
रस लइगा भंवरवा अपने का

राजा जनक के द्वारे मचलि रहे
मचलि रहे चारों भाई हो - जनक के

कौने का लाल कउने का लाल
बजावइ मुरलिया- कउने का लाल

कबै होई हो कब होई भेट नये राजा से
बजरिये मा हो बजरिये मा होई भेट नये राजा से
भंवरा लोभी रे फुलवरिया न छोड़े लोभी रे
गंगा नहाय कपिल दिहे दान
ढिलाव धरम कै जून चिरैया

जेखे सुन्दर रूप नैना लगे रघुवर से
दिन बिसरै न रात गौरा तोरी झुलनिया