भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

नम्बू लगायो चहकने का / बघेली

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बघेली लोकगीत   ♦   रचनाकार: अज्ञात

नम्बू लगायो चहकने का
रस लइगा भंवरवा अपने का

राजा जनक के द्वारे मचलि रहे
मचलि रहे चारों भाई हो - जनक के

कौने का लाल कउने का लाल
बजावइ मुरलिया- कउने का लाल

कबै होई हो कब होई भेट नये राजा से
बजरिये मा हो बजरिये मा होई भेट नये राजा से
भंवरा लोभी रे फुलवरिया न छोड़े लोभी रे
गंगा नहाय कपिल दिहे दान
ढिलाव धरम कै जून चिरैया

जेखे सुन्दर रूप नैना लगे रघुवर से
दिन बिसरै न रात गौरा तोरी झुलनिया