भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

नयनों ने मन के द्वारे पर स्वप्न सजाए हैं / योगेन्द्र वर्मा ‘व्योम’

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

नयनों ने मन के द्वारे पर
स्वप्न सजाए हैं

सागर चिंतित हुआ देखकर
सूखी हुई नदी
किंकर्तव्यविमूढ़ बन रही
फिर भी आज सदी

अम्मा ने उलझे प्रश्नों के
हल बतलाए हैं

कोरे काग़ज़ का सदियों से
यह इतिहास रहा
मौन साधकर सदा लेखनी
का ही दास रहा

मुनिया ने कुछ रंग-बिरंगे
चित्र बनाए हैं

निराकार मन की होती ज्यों
कोई थाह नहीं
अन्तहीन नभ में वैसे ही
निश्चित राह नहीं

नन्हीं चिड़िया ने उड़ने को
पर फैलाए हैं