भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

नया कलैण्डर / प्रकाश मनु

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पापा, नए साल पर लाना,
बढ़िया-सा
एक नया कलैण्डर!

बैठक में जो टँगा हुआ है
हुआ कलैण्डर बहुत पुराना,
उस पर मैंने कभी लिखा था
कालू-भालू वाला गाना।
मम्मी ने भी लिखा उसी पर
शायद राशन का हिसाब है,
इसीलिए बिगड़ा-बिगड़ा-सा
जैसे डब्बू की क़िताब है!

नया कलैण्डर लाना जिस पर
फूल बने हो
सुन्दर-सुन्दर!

फूलों पर उड़ती हो तितली
उसे पकडऩे डब्बू भागा,
आसमान में नया उजाला
सूरज भी हो जागा-जागा।
ऐसा नया कलैण्डर जिसमें
गाना गाए मुनमुन दीदी,
सुनकर के पेड़ों पर बैठी,
चिड़िया चहके चीं-चीं, चीं-चीं!

नई सुबह आएगी पापा
उस नन्हीं
चिडिय़ा-सी फुर-फुर!