भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

नया दिखाओ ड्रामा / प्रकाश मनु

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

चंदा मामा, चंदा मामा,
नया दिखाओ कोई ड्रामा।
टोपी लगा, बनो तुम जोकर,
फिर दिखलाओ हँसकर, रोकर।
गाने गाओ लारा लप्पा,
पानी को तुम बोलो पप्पा
किरणों की एक रस्सी लेकर
खाओ मामा, टप्पे जमकर।

फिर बन जाओ प्यारे गामा,
लंबे चोगे वाले लामा।
हाथ उठा, चाँदी बरसाओ,
सबको मालामाल बनाओ।
चंदा मामा, चंदा मामा,
दिखलाओ बढ़िया सा ड्रामा!