भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

नया समय / येव्गेनी येव्तुशेंको

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

नया समय आया है
नए नाम सामने लाया है

वे भागते-दौड़ते हैं
धक्का-मुक्की करते हैं
लोगों को बनाते हैं दुश्मन अपना
परेशानी पैदा करते हैं मन में
और उपजाते हैं गुस्सा

लेकिन वे
नायक हैं, नेता हैं
तेज़ बारिश में भीगकर भी लड़कियाँ
प्रतीक्षा करती हैं जिनकी
अँधेरे में झाँक-झाँक देखती हैं
ठीक करती हैं अपना मेक‍अप बार-बार

अरे, कहाँ हैं, कहाँ हैं तुम्हारे दुश्मन ?
जाओ-भागो और ढूँढ़ो उन्हें
भई, सब यहाँ हैं, खड़े हैं प्रसन्न
गरदन हिला रहे हैं आसन्न

और कहाँ हैं तुम्हारी वे लड़कियाँ
भीगकर कहीं बीमार न हो जाएँ वे
ख़तरनाक है बारिश उनके लिए
आख़िर उन्हें भी तो खेलने हैं भविष्य में
अपने नाती-पोते

तुम्हारे सारे दुश्मनों को चुरा लिया
सारी हल्की पद्चापों को चुरा लिया
सारी फुसफुसाहटों को चुरा लिया
शेष बचा रह गया है सिर्फ़ अनुभव

अरे, क्या हुआ, तुम क्यों उदास थे ?
बताओ ज़रा, तुम किसके पास थे
कहीं तुम ख़ुद ही तो नहीं चोर थे
चुप रहकर भी तुम मुँहज़ोर थे

जो कोई किशोर है
वह चोर है
और यही है जीवन का जादू
जीवन से कभी कुछ जाता नहीं है
सिर्फ़ हमेशा आता ही है

मत करो ईर्ष्या
बनो बुद्धिमान
सुखी चोरों पर खाओ तरस
चाहे कितने भी हों वे शैतान
वे खो देंगे अपना सर्वस्व

नया समय फिर आएगा
नए नामों को लाएगा


मूल रूसी भाषा से अनुवाद : अनिल जनविजय