भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

नवगीत

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हिन्दी नवगीत के वह महत्वपूर्ण और अद्वितीय हस्ताक्षर श्री माहेश्वर तिवारी के अनुसार

नवगीत की शर्तें व मर्यादायें

  • नवगीत भारतीयता से जुड़ा और आधुनिकता तथा वैज्ञानिक बोध से जुड़ा वह काव्य-रूप है जो छायावादोत्तर गीत-धारा से, गेयत्व को छोड़कर शेष सभी रूपों में आधुनिक मनुष्य का गीत है ।
  • महाप्राण निराला की सरस्वतीवंदना में ‘नव-गति, नव-लय, ताल छंद नव’ ही नवगीत का बीजमंत्र कहा जा सकता है ।
  • तार-सप्तक के कवियों ने तथा उससे बाहर के प्रयोगवादी व नई कविता के कवियों ने जो गीत लिखे उन्हें कुछ समय तक नई कविता के गीत और नया गीत के नाम से जाना-पहचाना जाता रहा । गीत से नवगीत तक की यात्रा में कई पड़ाव आए गीत से नवगीत तक की यात्रा में, गीत कभी प्रगीत बना, स्वच्छंदावादी गीत बना और फिर वह सन् साठ के बाद नवगीत बना ।
  • गीतों में प्रकृति-मनुष्य से अलग एक इकाई थी किन्तु नवगीत में वह सहचरी बन गई । भवानीप्रसाद मिश्र के गीत सतपुड़ा के घने जंगल / ऊँघते अनमने मंगल और ‘आज पानी गिर रहा है/घर नयन में तिर रहा है’ जिस नए गीत की आहट देते हैं वह गीत से नवगीत के प्रस्थानक बिन्दु के रूप में स्वीकारा जा सकता है ।
  • स्व. डॉ.शंभुनाथ सिंह द्वारा संपादित नवगीत दशक के प्रकाशन की प्रक्रिया 1968 में ही आरंभ हो गई थी जिस नवगीत को बाबा नागार्जुन, डॉ. विद्यानिवास मिश्र, आचार्य विष्णुकान्त शास्त्री, डॉ. विजय बहादुर सिंह, कविवर भवानीप्रसाद मिश्र जैसे लोगों ने सराहा, उसमें कुछ तो है ।
  • नवगीत कोई ऊपर से टूटा आकाश-कुसुम नहीं है, वह परंपरा से ही उपजी नवता है । नवगीत एक बिंबप्रधान काव्य-रूप है । उसमें सहजता तो अभिप्रेय है लेकिन सपाटबयानी नहीं । सपाट सिर्फ़ गद्य हो सकता है कविता नहीं । सहज होने और सपाट होने में अंतर है । कविता की एक विशेषता यह भी कही जाती है कि वह जितना व्यक्त करती है उतना ही अनकहा भी छोड़ देती है । दरअसल यह अनकहा ही तो कविता है ।
  • नवगीत और सहजगीत में सिर्फ़ शब्द का अंतर है । नवगीत भी सहजगीत हो सकता है और सहजगीत नवगीत । एक महत्वपूर्ण बात है कि अपने आरंभिक काल में नवगीत ने लोकजीवन से नई ऊर्जा ग्रहण की लेकिन कुछ लोगों ने उसे नवगीत का प्रतिमान मानकर इतने आंचलिक प्रयोग किए विशेषतः भाषा के स्तर पर कि वे सम्प्रेषणीय नहीं रह गए । इसी तरह कुछ भाषाविदों ने तत्सम शब्दाबली के प्रति इतनी गहरी रुचि दिखलाई कि उनकी रचनाओं को समझने के लिए कभी-कभी पढे-लिखे लोगों को भी शब्दकोषों का सहारा लेना पड़ा । दरअसल इनसे मुक्त गीत ही नवगीत है, गीत नवांतर है, जनवादी गीत है जिसे मैं सहज गीत मानता हूँ ।
  • नवगीतों में कथ्य और बिंबों में नयापन तथा भाषा में एक अलग तरह की मिठास एक साथ गुंथी हुई होती है,
  • कविताकोश में सम्मिलित नवगीतकारों के लिये श्रेणी नवगीतकार देखें