भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

नशा पिएँ भन्थें दशा पिइएछ / वियोगी बुढाथोकी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

नशा पिएँ भन्थें दशा पिइएछ
बोल्ने ओठलाई आफैँ सिइएछ

प्रेमको खोला तर्न भेट्न बोलाएँ
मायाको बदला चोट दिइएछ

मातिएका पाइला लर्खराएथे
होस् खुल्दा उनकै ओत लिइएछ

अठोटको लौरो टेक्दै धेरै धाएँ
बित्थामा निर्दोष पैताला खिइएछ ।