भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

नहीं, हरगिज़ नहीं / मदन मोहन दानिश

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मेरे आबाद लम्हों में
मेरी वीरानियों में भी
जो कोई साथ होता है
तो वो बस एक तू ही है
हज़ारों कोशिशें की
तुझपे कोई नज़्म कह डालूँ
कहानी कोई लिक्खूँ
या कि कोई गीत ही रच दूँ
मगर एहसास को तेरे
कोई एक रूप दे देना
मगर विस्तार को तेरे
किसी एक हद में ले आना
नहीं, हरगिज़ नहीं है मेरे बस में
मेरे बस में ...माँ !