भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

नहीं क्या मां / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हां SS
देखो
यह मैं हूं मां
ये तेरी
आंख है मां
आंख में
तिल है मां
तिल में
तूं है मां
आंख के तिल से
दुनिया है मां
मेरी दुनिया
तूं है मां ।


अनुवाद : नीरज दइया