भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

नहीं जानती लड़की / रंजना जायसवाल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

प्रेम में
कुछ भी नहीं सुनती
लड़कियाँ
गर्भपात के लिए लेटी
लड़की की आँखों में
पीड़ा के साथ थी एक चमक
विश्वास
नौकरी की तलाश में गया प्रेमी
आएगा लौटकर
नहीं जानती लड़की
कि छली जा चुकी है वह।