भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

नहीं यूँ ही हवा बेकल है मुझमें / विनय मिश्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

नहीं यूँ ही हवा बेकल है मुझमें ।
है कोई बात जो हलचल है मुझमें ।

सुनाई दे रही है चीख़ कोई,
ये किसकी ज़िन्दगी घायल है मुझमें ।

बहुत देखा बहुत कुछ देखना है,
अभी मीलों हरा जंगल है मुझमें ।

लगाये साज़िशों के पेड़ किसने,
फला जो नफ़रतों का फल है मुझमें ।

बुझाई प्यास की भी प्यास जिसने,
अभी उस ज़िंदगी का जल है मुझमें ।

मेरी हर साँस है तेरी बदौलत,
तू ही तो ऐ हवा पागल है मुझमें ।

सवालों में लगी हैं इतनी गाँठें,
कहूँ कैसे कि कोई हल है मुझमें ।

दिनोंदिन और धँसती है ग़रीबी,
यूँ बढ़ता कर्ज़ का दलदल है मुझमें ।

हवाओं में बिखरता जा रहा हूँ,
कहूँ कैसे सुरक्षित कल है मुझमें ।