भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

नहीं सुनाई देता है क्यूँ भीषण हाहाकार तुम्हें / महेश कटारे सुगम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

नहीं सुनाई देता है क्यूँ भीषण हाहाकार तुम्हें ।
भूल हुई जो बना दिया है सूबे का सरदार तुम्हें ।

रिश्वत बिना किसी दफ़्तर में काम नहीं होता कोई,
नहीं दिखाई देता है क्यूँ फैला भ्रष्टाचार तुम्हें ।

नारी-उत्पीड़न में सूबा अव्वल नम्बर पर आया,
फिर भी शर्म नहीं आती है लानत है धिक्कार तुम्हें ।

केबिनेट में भ्रष्ट मन्त्री छाँट-छाँट कर रख छोड़े,
लूट रहे क्या नहीं दिख रहे दौलत के दरबार तुम्हें ।

पोल खुलेगी जिस दिन उस दिन हश्र सामने आएगा,
मुर्दे सभी गवाही देंगे होगा कारागार तुम्हें ।