भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

नहीं है सांझ अपनी औ सवेरा / कुलवंत सिंह

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

नहीं है सांझ अपनी औ सवेरा।
न आया रास मुझको शहर तेरा॥

वहां पूरा मुहल्ला घर था अपना,
यहां इक रूम का कोना है मेरा।

वहाँ कस्बे में था आंगन लगा घर,
यहाँ सूरज न ही है चांद मेरा।

यहाँ बसते हैं लगता चील कौवे,
हमेशा नोंचते हैं मांस मेरा।

हुई है खत्म लगता जात आदम,
बना हर घर यहाँ भूतों का डेरा।

जिधर देखो उधर हैवान दिखते,
कहाँ खोजूँ मैं इंसां का बसेरा।

गुजारा हो नहीं सकता यहां पर,
मुझे लगता नही यह शहर मेरा।