भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

नाता : अेक / विरेन्द्र कुमार ढुंढाडा़

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

नाता जळम रा
बगै मिरतु ताईं
परोटणां
उंचावणा पड़ै
मन मार
कई बार।

बाजै रमझोळ
नातां री
सुण्यां हरखै मन
पण साम्भणी पडै
कड़ी-कड़ी।
टूट्यां कड़ी
अेकाध ई
रोसै मन नै
दोरो करै जीव
जीव री सींव में ई है
नातां री रमझोळ।