भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

नानक शाह / लीला मामताणी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तर्ज़: जाए तो जाए कहां

बाबा नानक शाह - बेपवाहु तूं हमराह
भवसागर मां पर लॻाइ

कलजुग जो दाता तूं आहीं
नानक वेस में अवतार आहीं
दुखड़ा लाहीं जॻ जा आधार - बाबा नानक शाह

वाह वसीलो ॿियो कीन भायां
आस उमेद तो मां कीन लाहियां
भुलियल बंदनि खे तूं दॻ लाइ - बाबा नानक शाह

ॿेड़ी मुंहिंजी आहे पुराणी
पासनि खां जंहिंजे वहे पियो पाणी
हथड़ा ॾेई ॿेड़ो तूं तार - बाबा नानक शाह

सतगरू तो तां वञा ॿलिहारी
दर्शन मूंखे ॾियो हिकवारी,
शरनि ‘निमाणी’ खे हंज में लिकाइ बाबा नानक शाह