भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

नानी का कम्बल / श्रीनाथ सिंह

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

नानी का कम्बल है आला,
 देख उसे क्यों डरे न पाला।
ओढ़ बैठती है जब घर में,
 बन जाती है भालू काला।
रात अँधेरी जब होती है,
 ओढ़ उसे नानी सोती है।
तो मैं भी डरता हूँ कुछ कुछ,
 मुन्नी भी डर कर रोती है ।
 पर बिल्ली है जरा न डरती,
लखते ही नानी को टरति ।
चुपके से आ इधर -उधर से,
उसमें म्याऊँ म्याऊँकरती ।
 कहीं मदारी यदि आ जाये,
कम्बल को पहिचान न पाये।
तो यह डर हैडम -डम करके,
पकड़ न नानी को ले जाये।