भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

नानी / प्रयाग शुक्ल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मेरी बेटी ने नहीं देखा मेरी नानी को ।
(नानी की कोई तस्वीर भी नहीं है मेरे पास )
मुझे भी अपनी नानी की धुंधली-सी याद है ।
नानी गाँव के एक घर में रहती थी
(उजले आंगन और अंधियारे कमरों के घर में}
नानी के गाँव में एक नहर थी ।

नानी अपने एक बेटे के पास रहती थी । शहर में ।
(छूटा जब गाँव का घर )
बूढ़ी नानी । एक छुट्टियों में हमें जब
गाड़ी पकड़नी थी रात की-- नानी
अपने संदूक को खोल कर
कुछ ढूंढ रही थी टटोलती--
नानी ने मुझे कोई चीज़ दी थी--
शायद हरे-काले से हो
गये कुछ पैसे
कुछ ठीक से याद नहीं
नानी ने कोई चीज़ दी तो थी ज़रूर !


नानी का चेहरा-- वह तो और
भी याद नहीं ।