भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

नानो अम्बो नऽ गढ़ झूमको / निमाड़ी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

नानो अम्बो नऽ गढ़ झूमको,
कुण भाई बेड़वा जाय रे।
असा नानाजी भाई पातला,
घोड़िला लिया हजार रे।
गया ते अमुक गांव का घोयरऽ,
व्हांका लोक भाग्या जाय रे।
मत भागो, मत भागो, लोग नऽ होणऽ,
हऊँ छे अमुक बैण को बीरो रे।
निकलो मोठी बैण भायरऽ
बौराजी खऽ लेवो पहेचाण रे।
ई घोड़िलो तो म्हारा बाप को,
बठणऽ वालो माड़ी-जायो रे।