भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  रंगोली
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

नानो सो चम्पो गंगा घर लगई आया / निमाड़ी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

नानो सो चम्पो गंगा घर लगई आया
तेकी डाळ गई गुजरात
ते अब घर आओ तीरथ वासी।
नानो सो अम्बो गंगा घर लगई आया
तेकी कैरी लगी लटलूम
हे अब घर आओ तीरथ वासी।
नानी सी गय्या गंगा घर धरी आया
तेका जाया अक्खरनी समाय
ते अब घर आओ तीरथ वासी।
नानी सी कन्या, गंगा घर छोड़ी आया,
तेका जाया पालणां नी समाय,
ते अब घर आओ तीरथवासी।
नानो सो पुत्र गंगा घर धरी आया,
तेका जाया पालणां नी समाय,
ते अब घर आओ तीरथवासी।