भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

नाम दिल पर इक लिखा-सा रह गया / मनोहर विजय

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

नाम दिल पर इक लिख़ा-सा रह गया
ज़ख़म कोई बस हरा-सा रह गया

दोस्तों में तज़करा-सा रह गया
दर्द मेरा अनसुना-सा रह गया

वो चुराकर ले गये ताबीर भी
ख़्वाब आँख़ों में सजा-सा रह गया

कौन था वो बेबसी के हाथ में
कौन मुझमें ख़ौलता-सा रह गया

इक सदा को अनसुना करते रहे
कौन हम में बोलता-सा रह गया

किस कदर डर था हवाओं का उसे
रात भर दीपक बुझा-सा रह गया

पार करने को समन्दर इश्क़ के
हाथ में कच्चा घड़ा-सा रह गया

बेबसी में मैं सरे-साहिल ‘विजय’
रक़्स-ए-मौजाँ देख़ता-सा रह गया