भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

नाम बिना तन विरथा गमायो / संत जूड़ीराम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

नाम बिना तन विरथा गमायो।
नाहक मार मरो माया की भौसागर को भार लदायो।
जुग-जुग गये अचेत भजन बिनु फिर-फिर काल बाँध लटकायो।
अब मन चेत हेत कर हरसों अंतकाल कोई काम ना आयो।
बेआगी की आग लगी है बुझत नहीं बिन वारि भुलायो।
जूड़ीराम नाम बिन चीन्हें बिन सतगुरु को खोजन पायो।