भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

नाम बिना नहिं मिलत ठिकानो / संत जूड़ीराम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

नाम बिना नहिं मिलत ठिकानो।
भूलो फिरत चहुंदिस व्याकुल ले सिर भार हार न मानो।
बही जात भौसागर माही फिर-फिर जमके हाथ बिकानो।
आँखि लाल खोल नहिं देखत बिनु गुरु संध्य परत नहिं जानो।
करत विहार हार नहिं मानत जानत जनम जगत बोरानो।
बिन सतसंग रंग नहिं दरसे जूड़ीराम नाम पहचानो।