भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

नारियल / प्रणय प्रियंवद

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बहुत कठोर ठोस
और अंदर है जीवन
पानी से भरा पूरा
हिलाया उसने और कान लगाकर देखा
बताया आवाज़ ने कि सूखा नहीं है नारियल
जीवन है उसमें
आसमान भी होगा ही अन्दर

पता नहीं कहां-कहां फूटेगा नारियल
कहां तसल्ली देगा
किसकी गोद भरेगा
किसे वापस लाएगा अस्पताल से
बचायेगा किसकी चूड़ियां
किस-किस का बेड़ा पार लगाएगा
किसे देगा शब्द, किसे देगा पानी
किसे आसमान और जमीन देगा नारियल
राकेट परीक्षण से पूर्व वैज्ञानिकों ने भी
फोड़ा नारियल
बच्चे के सही-सलामत लौट लाने पर
फूटता है मां के अन्दर हर रोज नारियल
और मां
बची है अभी तक संसार में।