भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

नारी बिन घर सुना, नारी बिन देहु सुना / अनिल शंकर झा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

नारी बिन घर सुना, नारी बिन देहु सुना
सूना-सूना देवथान बिना भगवान के।
राही बिना राह सुना शशि बिना रात सुना
सूना-सूना दिन लागै बिन दिनमान के।
निभै बिन रीत सूना प्रीत बिन मीत सुना
सूना-सूना सुधी जन बिन आत्मज्ञान के।
बिनु रे बलकवा के रमणी के गोद सूना
रमणी के प्रीत सूना बिनु सन्मान के॥