भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

नावक कहें सिनाँ कहें तलवार क्या कहें / मुबारक अज़ीमाबादी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

नावक कहें सिनाँ कहें तलवार क्या कहें
तू ही बता मुझ निगह-ए-यार क्या कहें

शिकवा न दाम का है न सय्याद का गिला
हम आप हो गए हैं ग़िरफ्तार क्या कहें

इज़हार-ए-हाल-ए-दिल का ऐसों से फाएदा
आज़ार दिल का तुझ से दिल-आज़ार क्या कहें

करते हैं वाइज आप मज़म्मत शराब की
कहते हैं क्या जनाब को मै-ख्वार क्या कहें

ऐसों से तर्क-ए-मय का ‘मुबारक’ सवाल क्या
तौबा की तुझ से रिंद-ए-कद़ह-ख़्वार क्या कहें