भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ना गुइयाँ, हाँ गुइयाँ / रमेश तैलंग

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

झूठ के पाँवों में मेंहदी रचाना,
ना गुइयाँ, ना गुइयाँ,
ना गुइयाँ, ना।

बातों ही बातों की
खिचड़ी पकाना,
ना गुइयाँ, ना गुइयाँ,
ना गुइयाँ, ना।

दुख में किसी के
जी को दुखाना,
ना गुइयाँ, ना गुइयाँ,
ना गुइयाँ, ना।

काम पड़े तो
आँखें चुराना,
ना गुइयाँ, ना गुइयाँ,
ना गुइयाँ, ना।

चारा दिनों का है
मिलना-मिलाना,
हाँ गुइयाँ, हाँ गुइयाँ,
हाँ गुइयाँ, हाँ।

प्यार का भूखा है
सारा जमाना।
हाँ गुइयाँ, हाँ गुइयाँ,
हाँ गुइयाँ, हाँ।