भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ना दवा कीजये ना दुआ कीजिये / गोविन्द राकेश

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ना दवा कीजये ना दुआ कीजिये
जख़्म को ना मेरे बस हरा कीजिये

आज से ही फ़िक्र क्यों मेरे कफ़न की
इस तरह ना हमें अधमरा कीजिये

कामयाबी मिले तो अकड़िए नहीं
और भी झुक के सबसे मिला कीजिए

हुक्मराँ आप हैं इसमें शक है कहाँ
पर अपने फ़राइज़ अदा कीजिये

जो मुनासिब नहीं कुछ यहाँ बोलना
आँख से तो इशारा किया कीजिये