भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

निंदिया आ री / भगवतीप्रसाद द्विवेदी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

निंदिया, तू है कितनी प्यारी,
बिटिया की अंखियों में आ री!
आ जा फुदक-फुदक चिड़िया-सी
रुनझुन-गुनगुन गाती,
आंगन में उतरी चंदनिया
ठुमक-ठुमक लहराती।
आ जा सजा सपन फुलवारी,
महके मह-मह क्यारी-क्यारी।
नींद समंदर में सोए हैं
सूरज दादा थककर,
चंदा में बैठी बुढ़िया भी
लेटी नींद झपककर।
नयनों में छा गई खुमारी,
सोई तितली प्यारी-प्यारी।
उड़नखटोले में बैठाकर
परियों को भी लाना,
बिटिया को भी परीलोक की
मीठी सैर कराना।
पलने में हम रहे झुला री,
निंदिया खील-बताशे खा री!