भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

निंदिया प्यारी, आ जा तू / शकुंतला सिरोठिया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

निंदिया प्यारी, आ जा तू,
मुन्ने को बहला जा तू।
तुझको खील-मिठाई दूंगी
दूंगी नए खिलौने,
लाल सुनहरी चुनरी दूंगी
नई मंगाई मैंने।
राग सुरीले, आ जा तू,
निंदिया प्यारी, आ जा तू!