भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

निंदिया सतावे मोहे / शमशेर बहादुर सिंह

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

निंदिया सतावे मोहे सँझही से सजनी।
सँझही से सजनी ॥1॥
प्रेम-बतकही
तनक हू न भावे
सँझही से सजनी ॥2॥
निंदिया सतावे मोहे...।
छलिया रैन
कजर ढरकावे
सँझही से सजनी ॥3॥
निंदिया सतावे मोहें...।
दुअि नैना मोहे
झुलना झुलावें
सँझही से सजनी ॥4॥
निंदिया सतावे मोहें...।