भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

निकले हो रास्ता बनाने को / हस्तीमल 'हस्ती'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

निकले हो रास्ता बनाने को
तुमने देखा नहीं ज़माने को

जंग दुनिया से मेरी जारी थी
आ गया घर भी आज़माने को

अम्न तो हम भी चाहते हैं मगर
लोग आमादा हैं लड़ाने को

अपनी छत को दुरुस्त कर पहले
फिर निकल आसमाँ सजाने को

अपनी सुध-बुध भुलाये बैठे हैं
जो भी आए हमें हराने को