भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

निकले / साहिल परमार

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जितने बाहर हैं उसी से बहुत अन्दर निकलें
मिले जो तेरी नज़र एक समन्दर निकले

हम बरसते रहें बादल की तरह जी भर के
खेत माना था जिन्हें वो भी तो बंजर निकले

दिखाई देते हैं खिदमत में आज कल उनकी
जुबाँ से राम नहीं सैंकड़ों खंजर निकले

मसीहा मान के पूजा था हम ने कल जिन को
वो फ़रिश्ते नहीं, इन्साँ नहीं, बन्दर निकले

पाँव मज़बूत हों कितने ही मगर कल ‘साहिल’
चींटी के जिस्म में से रुहे सिकन्दर निकले

मूल गुजराती से अनुवाद : स्वयं साहिल परमार