भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

निकलो डो फोकले बाई बायरो / कोरकू

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

निकलो डो फोकले बाई बायरो
निकलो डो फोकले बाई बायरो
जुम्का दादा लेने को आया
जुम्का दादा लेने को आया
मैं कैसी निकलो मारो भैया
सास ससूरा लागे भैया भैया सोना किवाड़
सास ससूरा लागे भैया भैया सोना किवाड़
मैं कैसी निकलो मारो भैया
आना जाना रास्ता एकली
आना जाना रास्ता एकली
बुलेइ लेवो हरदा सोनारो
बुलेइ लेवो हरदा सोनारो
खोली लेवो ऐजे सोनार किवाड़
खोली लेवो ऐजे सोनार किवाड़
निकालो डो इये बाई बाहर
दादा बीरा लेने को आयो
मैं कैसी निकलूं भैया

स्रोत व्यक्ति - मुलायम, ग्राम - भोजूढाना