भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

निदरिया तोही बेची जो / बघेली

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बघेली लोकगीत   ♦   रचनाकार: अज्ञात

निदरिया तोही बेची जो कोउ गाहक होउ
साजन आये लौटि गे काहे ना जगाये मोहि
निदरिया हम लेबइ जो तुम्हें बेचन होय
करा मोल निदरी कै जो तुम्हें बेचन होय