भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

निनाद / राहुल झा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

घने वनों के पार
चट्टानों पर गिरती जलधाराओं का
जो खनखनाता निनाद है...

सगर की उत्तुंग उठी गर्वीली लहरों की
कगार पर
विक्षुब्ध पछाड़ों का
जो हिनहिनाता निनाद है...

ऊँचे कद्दावर दरख़्तों को
हिलाती
गुंजान हवाओं का
जो खिलखिलाता निनाद है...

गूँजती हुई वीणा की तरंगों पर
थिरकता
जो दिपदिपाता निनाद है...

वही निनाद... मैं हूँ!
अपनी ही पुकार की अनुगूँजों के पीछे

बजता हुआ...।