भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

निरख नाम चित चेत गहो रे / संत जूड़ीराम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

निरख नाम चित चेत गहो रे।
छोड़ो हेत कुटल काया को भूलन तज हर नाम भजो रे।
धन दारा अरु बंधू हितू सब अंतकाल नहि कोऊ सगो रे।
डूबो जीव भरम सागर में मन दुविदा की धार बहो रे।
जूड़ीराम नाम बिन चीन्हें बेजल मीन अधीन मरोरे।