भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

निरर्थकता भी अशाब्दिक पाठ है / नीलोत्पल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जगह-जगह गड्डे भरे हैं खालीपन के
रात, सुबह की रोशनी में बिला जाती है
याद करने से नहीं भरता अशक्त मन

पटरियों का ठंडा लोहा छूता है
स्मृतियों की निखालिस परछाई

यादें सिहरती हैं
पड़े-पड़े कथिर की तरह जमते हैं हमारे नन्हें आशय

धूल हमारे समय का पछतावा है

सभी के चेहरे थके हुए हैं लंबी यात्रा से

एक गोल घेरा है चारों ओर
कोई बाहर नहीं
मासूम पत्तियां बाहर गिरती है तो
खींचता है पृथ्वी का तनाव

सिर्फ आदर्श जिंदगी का फलसफा नहीं हो सकता
निरर्थकता भी अशाब्दिक पाठ है