भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

निर्वासन का घर / तेनजिन त्सुंदे

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

चू रही थी हमारी खपरैलों वाली छत
और चार दीवारें ढह जाने की धमकी दे रही थीं
लेकिन हमें बहुत जल्द लौट जाना था अपने घर.

हमने अपने घरों के बाहर
पपीते उगाए,
बगीचे में मिर्चें,
और बाड़ों के वास्ते चंगमा[1],
तब गौशालों की फूँस ढँकी छत से लुढकते आए कद्दू --
नांदों से लडख़ड़ाते निकले बछड़े,
छत पर घास
फलियों में कल्ले फूटे
और बेलें दीवारों पर चढऩे लगीं,
खिड़की से होकर रेंगते आने लगे मनीप्लाण्ट,
ऐसा लगता है हमारे घरों की जड़ें उग आई हों ।

बाड़ें अब बदल चुकी हैं जंगल में
अब मैं कैसे बताऊँ अपने बच्चों को
कि कहाँ से आये थे हम ?

शब्दार्थ
  1. बेंत जैसा लचीले तने वाला एक पेड़