भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

निसि दिन नाम प्रेम धुन छाई / संत जूड़ीराम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

निसि दिन नाम प्रेम धुन छाई।
भयो अडोल एक मत डोली बोल एक अनमोल कहाई।
काछो काछ नाच अब सांचो सुरत समार शबद मिल जाई।
मन की विखम कल्पना जीव की सकल सोच भ्रम दूर गमाई।
बलहारी सतगुरु चरनन की भौसागर की फंद छुड़ाई।
जूड़ीराम सकल भय नासी बैठ महल में कहल बुझाई।