भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

नींद चुराई मेरी किसने ओ सनम / राहत इन्दौरी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

नींद चुराई मेरी किसने ओ सनम, तूने
चैन चुराया मेरा किसने ओ सनम, तूने
दिल में मेरे रहने वाली कौन है, तू है, तू है
नींद चुराई मेरी किसने ओ सनम, तूने, तूने

क्या मतलब है, क्यूँ तू आगे पीछे है
दिल बेचारा इन पैरों के नीचे है
दिल का भरोसा क्या है दिल तो काफ़िर है
जान मेरी ले, जान भी मेरी हाज़िर है
तेरी किस्मत, तेरी चाहत कौन है, तू है, तू है
नींद चुराई मेरी...

क्या है भरोसा तेरे जैसे पागल का
घुँघरू बना के रख ले अपनी पायल का
प्यार है तो कहता है क्यूँ डर डर के
एक नहीं मैं सौ बार दिखा दूँ मर मर के
सच सच कहना, दिल में तेरे कौन है, तू है, तू है

नींद चुराई मेरी किसने ओ सनम, तूने
चैन चुराया मेरा किसने ओ सनम, तूने
दिल में मेरे रहने वाली कौन है, तू है, तू है
नींद चुराई मेरी किसने ओ सनम, तूने, तूने

यह गीत राहत इन्दौरी ने फ़िल्म 'इश्क़' (1997) के लिए लिखा था ।