भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

नींव अनाम सिपाही होंगे / विजय वाते

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

होंगे जिल्ले इलाही होंगे
साथी चोर सिपाही होंगे

जो खुद अपने साथ नहीं हैं
किसके क्या हमराही होंगे

खौफज़दा वो कान के कच्चे
क्या जुल्मों के गवाही होंगे

उनकी हस्ती रिश्ते नाते
सब के सब हरजाई होगे

खुद को गलत समझने वाले
अपने ही शैदाई होंगे

नाम अमर चाहे इनका हो
नींव अनाम सिपाही होंगे