भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

नीच / मुंशी रहमान खान

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

नीच निचाई नहिं तजैं नहिं मानैं वे पोष।
अपना मतलब गाँठ कर तुम को देवैं दोष।।
तुमको देवैं दोष पास कबहूँ नहिं आवैं।
पडै़ तुम्‍हारा काम तुम्‍हैं बहु भाव बतावैं।।
कहैं रहमान कहुँ नहिं परियो तुम नीचन के बीच।
बुद्धि तुम्‍हारी लेय कर तुम्‍हैं बतावैं नीच।।