भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

नीम का फूल / असंगघोष

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

चिड़िया को
पीने रखे थे
माटी के कटोरे
पानी भर
चहारदिवारी पर
लटकाया था
एक कटोरा
नंगे खम्भे से
इन सब पर
रंग-बिरंगी
चिड़ियाएँ आतीं
दो बार
चोंच डुबा
पी जातीं पानी
अपनी अदाओं को
मेरे कैमरे में
कैद कराती इठलाती
उड़ जाती
आज अनायास
कटोरे के कोरों पर
एक छोटा-सा
सफेद फूल व्यूफाइंडर से
दिख गया
उसे पास जा पहचाना
वह था
कड़वाहट से परिपूर्ण
खूबसूरत
नीम का फूल।