भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

नीलमणि मुख पोखर में खड़ा सूर्य / तेजी ग्रोवर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

नीईईईईल---मणि----मुख
पोखर में खड़ा सूर्य

             झलक गया अभी से
                         बिम्ब भी
                           साँझ की आमद का

चन्द्रमा
      खींच लिये चलता है अपना चित्र

                पानी से बहुत दूर दूर वहाँ
                 और
                 अनिद्रा में डूबे हुए वे श्वेत से कुछ पंख

उस ओर शायद प्रतीक्षा करती बैठी हो
कागज़ की

वह, रसभरी !