भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

नीला नभ / ज्ञान प्रकाश चौबे

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कल्पना चावला के लिए

नीला नभ
रंग बदल रहा है
काला हुआ जा रहा है
उसका रंग

किन्तु हँस रहा है
तारे टँके जा रहे हैं
एक के बाद एक
....झिलमिला रहा है
उसका चेहरा

अरे !
वो चलता हुआ उल्का-पिण्ड
स्थिर हुआ जा रहा है
.....की तारा हुआ जा रहा है
एक स्निग्ध मुस्कान
होंठों के कोरों पर
नभ मुस्करा रहा है