भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

नीली-पीली लड़कियाँ / श्याम बिहारी श्यामल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कितनी भली हैं
छतों पर खड़ी
हरी-भरी
नीली-पीली लड़कियाँ

चोंच खोले
पंख पसारे
नन्ही आँखों में
टिमटिम तारे

धमन-भट्ठी में पली हैं
बिल्कुल डब-डब भरी हैं
बूँद-बूँद छिजतीं
नीली-नीली लड़कियाँ

आँधी से वे बेख़बर
पर टूटेगा जब कहर
कैसे-कैसे कुम्हलाएँगी
क्या-कितना कुछ कर पाएँगी
अंगारों-सी दहक-दमक उठीं
लाल-लाल लौह-छड़ियाँ